आम आदमी के लिए Covid-19 Vaccination Registration CoWIN पर शुरू…

जाने कैसे कर सकते है रजिस्ट्रेशन।

cowin.gov.in या आरोग्य सेतु app से कर सकते है आवेदन, बुजुर्गों के लिए 1507 फ़ोन नंबर डायल कर रजिस्ट्रेशन करने की विशेष सुविधा भी उपलब्ध।

सरकार ने कोविड-19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम के दूसरे चरण की शुरुआत एक मार्च से कर दी है। इसके तहत अब आम लोग वैक्सिनेशन लिए आवेदन कर सकते हैं। साथ ही सरकार ने ग्राउंड-वर्क के दौरान वायरस को फैलने से रोकने के लिए विशेष तैयारी की है और इसीलिए आम लोग वैक्सीन के लिए अपना रजिस्ट्रेशन और अपॉइंटमेंट कैसे करें, इसके लिए सरकार की तरफ से एक विशेष मैनुअल भी जारी कर दिया गया है।

CoWIN पोर्टल पर सोमवार सुबह से रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया है। आम लोग इसकी वेबसाइट cowin.gov.in पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। टीकाकरण के लिए Co-WIN की वेबसाइट cowin.gov.in पर या फिर आरोग्‍य सेतु पर खुद को रजिस्‍टर कर सकते हैं।

रजिस्ट्रेशन के लिए इसमे सबसे पहले आप अपना मोबाइल नंबर दर्ज कराएंगे फिर उसी नंबर पर आपको एक OTP भेजा जाएगा। उसी OTP से आप अपना अकाउंट बनाएंगे।

इसके लिए नाम, उम्र, लिंग भरने के साथ एक पहचान पत्र अपलोड करना होगा। अगर आपकी उम्र 45 साल से ज्‍यादा है और को-मॉर्बिडिटी है तो आपको उसका भी सर्टिफिकेट अपलोड करना होगा। इसके बाद टीकाकरण केंद्र और तारीख का चयन करें। एक मोबाइल नंबर के जरिए 4 अपॉइंटमेंट्स ली जा सकती हैं।

सीनियर सिटीजंस के लिए फोन से रजिस्‍ट्रेशन का विकल्‍प भी है। इसके लिए 1507 डायल करना होगा। लोग इसके लिए नजदीकी कोविड टीकाकरण केंद्र पर भी जा सकते हैं। उधर, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि Co-WIN app लाभार्थियों के लिए नहीं है। Goolge Play Store पर इस आशय का जो app है वह केवल एडमिनिस्ट्रेटर्स के लिए है।

सरकार ने रजिस्टेशन के लिए आधार कार्ड को आवश्यक माना है। लेकिन इसके विकल्प के तौर पर वोटर आईडी, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, PAN कार्ड, हेल्‍थ इंश्‍योरेंस स्‍मार्ट कार्ड, पेंशन के कागजात, बैंक या पोस्‍ट ऑफिस की पासबुक, मनरेगा जॉब कार्ड का भी उपयोग स्वीकार्य हैं। जनप्रतिनिधियों और सरकारी कर्मी अपने आईडी कार्ड का इस्तेमाल पंजीकरण के लिए कर सकते हैं। नेशनल पॉपुलेशन रजिस्‍टर के तहत जारी स्‍मार्ट कार्ड भी वैध माना जाएगा है।

वैक्सिनेशन के लिये आयुष्मान भारत योजना के तहत 10 हजार से ज्यादा निजी अस्पतालों को भी इस मुहिम में जोड़ा किया गया है। 6 सौ से ज्यादा अस्पताल सीजीएचएस के तहत जोड़े गए हैं। राज्य सरकारों ने अपनी तरफ से भी निजी अस्पतालों को वैक्सीन लगाने का काम सौंपा है। इसके अलावा सरकार ने निजी अस्पतालों को कोविड-19 की वैक्सीन पर 250 रुपए चार्ज करने की अनुमति प्रदान की है।

गौरतलब है कि ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन को भारत में सीरम इंस्टीट्यूट ने डेवेलप किया है। यह वैक्‍सीन कोविशील्ड नाम से उपलब्‍ध है। इसके अलावा भारत बायोटेक की कोवैक्सीन भी लोगों को दी जाएगी। दोनों को सुरक्षा के मानकों पर सुरक्षित और असरदार पाया गया है। कोविशील्ड और कोवैक्सीन की डोज सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को भेज दी गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *