क्या गूगल, एप्पल ने चुपके से आपके मोबाइल में डाला है कोविड-19 ट्रैकर  ? जानिए सच्चाई

COVID-19 Tracker: कई लोग व्हाट्सएप और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक मैसेज भेज रहे हैं, जिसमें दावा किया गया है कि एक कोविड-19 ट्रैकर को चुपचाप हर फोन में डाला गया है। यह संदेश वास्तव में कोविड-19 कांटेक्ट ट्रेसिंग सिस्टम का उल्लेख कर रहा है जिसे Apple और Google ने संयुक्त रूप से Android और iPhone दोनों डिवाइस पर कोविड-19 एक्सपोज़र नोटिफिकेशन को एक्टिव करने के लिए बनाया है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि आपकी लोकेशन या किसी अन्य डिटेल को ट्रैक करने के लिए ट्रैकर स्थापित किया गया है।

व्हाट्सएप पर व्यापक रूप से फैले संदेश के अनुसार, हर एक एंड्राइड और आईफोन डिवाइस पर COVID-19 एक्सपोज़र सेंसर स्थापित किया गया है। संदेश कहता है कि ब्लूटूथ चालू होने के बाद यह एक्टिव हो जाता है। आपको फ़ेसबुक और ट्विटर जैसे प्लेटफ़ॉर्म पर भी ऐसे ही मैसेज मिलेंगे।

यह मैसेज केवल आधी सच्चाई बता रहे हैं, हालांकि एप्पल  और गूगल दोनों कोविड-19  कांटेक्ट ट्रेसिंग सोल्यूशन पर काम कर रहे हैं, एक ऐप आपके स्मार्टफोन पर आपकी अनुमति के बिना इनस्टॉल नहीं किया गया है। आपके डिवाइस पर ऐप को डाउनलोड करने का दावा गलत है। यह  सच ब्रिटेन के फैक्ट-चेकिंग आर्गेनाइजेशन फुल फैक्ट द्वारा उजागर किया गया है।

वास्तव में एंड्रॉइड डिवाइसों पर गूगल सेटिंग्स मेन्यू में एक नई सर्विस की शुरुआत हुई है जो “कोविड-19 एक्सपोज़र नोटिफिकेशन” के लिए है। हालाँकि, उस सर्विस को टैप करने पर, आप पाएंगे कि Google ने आपके फ़ोन पर कोई नया ऐप पहले से इनस्टॉल नहीं किया है।

वास्तव में, आपको कोविड -19 के नए एक्सपोज़र नोटिफिकेशन्स को एक्टिव करने के लिए एक पार्टिसिपेटिंग ऐप की आवश्यकता होगी। ऐसी कई सरकारें हैं जिन्होंने नए एक्सपोज़र नोटिफिकेशन सिस्टम का उपयोग करके  पार्टिसिपेटिंग ऐप्स को डेवेलप किया है, हालाँकि भारत सरकार उस ग्रुप का हिस्सा नहीं है।

iPhone के साथ भी ऐसा ही है क्योंकि Apple ने पिछले महीने iOS 13.5 में कोविड-19 एक्सपोज़र लॉगिंग ऑप्शन जोड़ा था, लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि आपके डिवाइस पर कोई ऐप या सर्विस चुपचाप इंस्टॉल की गई है। आप कोविड-19 एक्सपोज़र नोटिफिकेशन्स को तब तक एक्टिव नहीं कर सकते जब तक कि आपके फ़ोन में विशेष रूप से ऐप इंस्टॉल न हो।

समय के साथ, एप्पल और गूगल के पास एक डेडिकेटेड ऐप की आवश्यकता के बिना कोरोनवायरस-संबंधित कांटेक्ट ट्रेसिंग प्रदान करने की योजना है। यह अभी भी एक ऑप्शनल फीचर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *