Parle-G Biscuits: पारले-जी बिस्कुट ने कोरोना लॉकडाउन में तोड़े 8 दशकों के सभी सेल्स रिकॉर्ड

Parle-G Biscuits: 1938 से घरेलू नाम बन चुके बिस्किट ब्रांड पारले-जी ने देश भर में इस COVID-19 लॉकडाउन के दौरान बिस्कुट की सबसे अधिक मात्रा में बिक्री करने का एक अनूठा उपलब्धि हासिल की है। यद्यपि मूल कंपनी, Parle Products, ने अपने विशिष्ट बिक्री आंकड़ों को दिखाने से इनकार कर दिया, उन्होंने पुष्टि की कि मंथली सेल्स के मामले में कंपनी ने मार्च, अप्रैल और मई के दौरान अपने आठ दशकों में अपने सर्वोत्तम महीनों का अनुभव किया है।

रिपोर्ट के अनुसार, COVID-19 लॉकडाउन चरण के दौरान बिस्कुट की अभूतपूर्व बिक्री देश में बड़े पैमाने पर हुई क्योंकि लोगों ने आसान और सरल आवश्यक खाद्य पदार्थों पर स्टैक किया।

कंपनी ने लॉकडाउन के दौरान खुदरा दुकानों पर उत्पाद उपलब्धता की गारंटी देने के लिए 7 दिनों के भीतर अपने वितरण चैनलों को कथित तौर पर बंद कर दिया।

कई राज्य सरकारों ने बिस्कुट के लिए कंपनी से माँग की और कई गैर-सरकारी संगठनों ने भी बड़ी मात्रा में पारले-जी बिस्कुट खरीदी। कंपनी ने 25 मार्च से इसके उत्पादन को फिर से शुरू किया है।

वर्तमान में कंपनी के पूरे भारत में 130 कारखाने हैं जिनमें से 120 इकाइयाँ उत्पादन कर रही हैं जबकि 10 उसी के स्वामित्व वाली हैं।

पारले-जी ब्रांड 100 रुपये प्रति किलोग्राम ‘सस्ती / मूल्य श्रेणी के अंतर्गत आता है, जो कुल उद्योग के राजस्व का एक-तिहाई हिस्सा रखता है और बेची गई मात्रा का 50% से अधिक होता है। चाहे वह उत्तराखंड में आई हुई प्राकृतिक आपदा हो या फिर कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान सप्लाई हो, लोगों की पहली पसंद पारले-जी बिस्कुट ही रहा है। लोग इसे चाय के साथ लेना सबसे अधिक पसंद करते हैं।

हालाँकि आधिकारिक सेल्स आंकड़ों का इंतज़ार रहेगा लेकिन ट्विटर पर #parleg ट्रेंड करना शुरू हो गया और कंपनी की तरफ लोगों का आभार व्यक्त करते हुए आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट भी किया गया। इससे साफ़ ज़ाहिर होता है कि आज़ादी के पहले रहे ब्रांड्स में केवल पारले-जी ही ऐसा ब्रांड जो उसी टॉप पॉपुलैरिटी वाले स्थान को आज भी जनता के बीच कायम रख पाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *